Home Crime बाहुबली मुख़्तार अंसारी को राहत लेकिन पुत्रों की मुश्किल बरक़रार

बाहुबली मुख़्तार अंसारी को राहत लेकिन पुत्रों की मुश्किल बरक़रार

लखनऊ, संवाददाता। उत्तर प्रदेश के बड़े माफिया मुख्तार अंसारी के विरुद्ध जारी कार्रवाई रुकने का नाम नहीं ले रही है |हालांकि बाहुबली मुख्तार अंसारी को एक बड़ी राहत मिली है |उन्हें गैंगस्टर समय 3 मामलों में कोर्ट ने बरी कर दिया गया है | हालांकि उसके साथ ही उनके दोनों बेटों पर शिकंजा और कसता जा रहा है | मुख्तार के दोनों बेटों अब्बास अंसारी व उमर अंसारी की अग्रिम जमानत याचिका निचली अदालत ने खारिज कर दी है | उनके खिलाफ हाल ही में गाजीपुर में ध्वस्त किए गए मुख्तार अंसारी के ग़ज़ल होटल की जमीन की खरीद फरोख्त व फर्जीवाड़े के मामले में कोर्ट ने उन्हें अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया |

बाहुबली मुख्तार अंसारी के खिलाफ जेलर को जान से मारने की धमकी ,गैंगस्टर सहित 3 मामलों की सुनवाई लखनऊ के एमपी, एमएलए स्पेशल कोर्ट में चल रही थी | इनमें से एक मामला 2003 में मुलाकातों की जांच का आदेश देने पर लखनऊ के जेलर को जान से मारने की धमकी देने का था | दूसरा मामला 1 मार्च 1999 को तत्कालीन महानिरीक्षक कारागार ने थाने में दर्ज कराया था | थाने में दर्ज मुकदमे की सुनवाई चल रही थी | मुख्तार अंसारी की संपत्ति पर कार्रवाई के क्रम में बीते 1 नवंबर गाजीपुर के महुआ गांव में बना आलीशान होटल ग़ज़ल को तोड़ दिया गया था | आरोप है कि ग़ज़ल होटल के निर्माण में मानकों की अनदेखी की गई है और इसके लिए जमीन की खरीद-फरोख्त में भी फर्जीवाड़ा हुआ | इस मामले में मुख्तार अंसारी की पत्नी व उनके दोनों बेटे समेत 12 लोगों के खिलाफ गाजीपुर कोतवाली में मामला दर्ज किया गया था | इसी मामले में अपर सत्र न्यायाधीश की कोर्ट में अब्बास अंसारी और उमर अंसारी की अग्रिम जमानत याचिका को आधारहीन मानते हुए खारिज कर दिया गया | इस मामले में गिरफ्तार साजन की भी जमानत की अर्जी कोर्ट ने नामंजूर कर दी है |

विधायक बाहुबली विजय मिश्रा पर भी हुए सख्त कार्रवाई

जेल में बंद भदोही के ज्ञानपुर से विधायक बाहुबली विजय मिश्रा के सरकारी जमीन कब्जा करने के मामले में एंटी भू माफिया एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है | यह मुकदमा नेशनल हाईवे के किनारे से ढाई बीघा जमीन के मामले में दर्ज कराया गया है | उनके खिलाफ एंटी भू माफिया के तहत धारा 447 के अंतर्गत मामला दर्ज किया गया है | बाईट 18 दिसम्बर को अधिकारियों और पुलिस ने मौके पर पहुंचे जेसीबी से क़ब्ज़ा ढहाते हुए सरकारी जमीन को आज़ाद कराया था | ज्ञानपुर एसडीएम ने बताया कि आज़ाद कराई गई भूमि सरकार की है जिसकी कीमत 5 करोड़ से अधिक है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

तुराज ज़ैदी का हुआ जरवल में भव्य स्वागत

लखनऊ, संवाददाता।भारतीय जनता पार्टी के प्रचार प्रसार के लिए निरन्तर मुसलमानों से निकटता बनाए रखने के लिए प्रयासरत फखरुद्दीन अली अहमद मेमोरियल कमेटी उत्तर...

एन एस लाइव न्यूज़ ने किया भंडारे का आयोजन,ग़ैर मान्यता प्राप्त पत्रकारों के हितों पर 26 जून को होगी बैठक

लखनऊ, संवाददाता ।एन एस लाइव न्यूज़ चैनल द्वारा आज बालागंज में स्थित परफेक्ट टावर के बाहर आखिरी बड़े मंगल के अवसर पर विशाल भंडारे...

भारत निर्वाचन आयोग ने निर्धारित की राष्ट्रपति चुनाव की तिथ

भारत के 15वें राष्ट्रपति का चुनाव 18 जुलाई को लखनऊ, संवाददाता। देश के 14वें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई, 2022 को समाप्त हो...

ये ड्राई फ्रूट्स दिलवाते हैं बैड कोलोस्ट्राल से नजात

ज़की भारतिया सिर्फ इन्सान के बदलते हुए रहन सहन और गलत खानपान के कारण ही नहीं बल्कि बाज़ार में आ रही खाने पीने की मिलावटी...

पूर्व सीएजी विनोद राय की माफी से साफ हो गया कि उन्होंने अपनी 2 जी स्पेक्ट्रम व कोल रिपोर्ट में झूठ बोलकर मनमोहन सरकार...

  लखनऊ ,संवाददाता। पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सचिन पायलट ने आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पर आयोजित पत्रकार वार्ता में पूर्व सीएजी...