HomeCITYभाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे और शिया धर्मगुरुओं के बयान से मिली भाजपा को...

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे और शिया धर्मगुरुओं के बयान से मिली भाजपा को बड़ी जीत

ज़की भारती

लखनऊ, संवाददाता। भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के अवध क्षेत्रीय मंत्री सय्यद हसन कौसर ने भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश में पुनः सरकार बनने की उम्मीद के चलते आज अपनी कार को जिस प्रकार से सजाया है उससे प्रतीत हो रहा है की उन्हें पहले ही इस बात की आशा थी कि उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने जा रही है । यही नहीं मुस्लिम राष्ट्रीय मंच से इस्तीफा देकर पुनःभारतीय जनता पार्टी में वापसी करने वाले हसन कौसर ने भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे में आकर मुस्लिम समुदाय को भाजपा से जोड़ने का बड़ा कार्य किया, साथ ही फखरुद्दीन अली अहमद मेमोरियल कमेटी के अध्यक्ष अतहर सग़ीर उर्फ तूरज ज़ैदी आदि ने भारतीय जनता पार्टी का उस समय दामन थामा था जिस समय भाजपा के दामन को थामने वाला कोई अन्य मुसलमान नहीं था। ये वो समय था ,जब भारतीय जनता पार्टी को कोई अपनी निगाह से देखने को तैयार भी नहीं था। भारतीय जनता पार्टी को विजय रथ पर बैठाने में जहां प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनकल्याणकारी नीतियों का चुनाव पर जबरदस्त असर पड़ा तो वही मुस्लिम समुदाय को भाजपा से जोड़ने का भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे का भी अहम किरदार रहा । यही नहीं कई शिया धर्मगुरुओं ने भी भाजपा की हिमायत में सीधे तौर से नहीं तो इशारे में मुसलमानों से भारतीय जनता पार्टी को वोट दिए जाने की अपील भी की थी । इनमें शिया धर्मगुरु सैयद कल्बे जवाद नक़वी का नाम भी शामिल है । उन्होंने अपनी बीमारी के बावजूद एक वीडियो जारी करके पवित्र ग्रंथ कुरान का उल्लेख करते हुए एहसान का बदला एहसान के तहत भाजपा की जमकर प्रशंसा की थी और उन्होंने बिना नाम लिए भाजपा को वोट दिए जाने की अपनी कौम से अपील भी की थी। जिसका असर भारतीय जनता पार्टी की जीत पर पड़ा।

भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुंवर बासित अली ने इस बार हुए विधानसभा चुनाव के लिए संपूर्ण उत्तर प्रदेश में मुसलमानों के बीच संवाद कार्यक्रम करके मुसलमानों को भारतीय जनता पार्टी से जोड़े जाने का एक बड़ा कार्य किया है। उन्होंने मुसलमानों से अपील की थी कि आपका साथ भारतीय जनता पार्टी के लिए बेहद आवश्यक है। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की जनकल्याणकारी नीतियों को मुसलमानों के आगे जगह जगह परोसा ,जिससे मुसलमानों में भारतीय जनता पार्टी के प्रति हमदर्दी पैदा हुई। कुंवर बासित अली ने तीन तलाक से लेकर मुस्लिम महिलाओं के प्रति भारतीय जनता पार्टी द्वारा उठाए गए कदमों की बात मुसलमानों के बीच रखी ।
उन्होंने विभिन्न शहरों में आयोजित संवाद कार्यक्रम में कहा था कि जो पार्टियां भारतीय जनता पार्टी से मुसलमानों को दूर करने का प्रयास करती आ रही हैं उन्होंने मुसलमानों के साथ आज तक कुछ नहीं किया ,और अगर कुछ किया तो सिर्फ भारतीय जनता पार्टी और मुसलमानों के बीच खाई बनाने का काम किया ,बावजूद इसके भारतीय जनता पार्टी ने अपने कार्यकाल के अंदर किसी भी मुसलमान के साथ सौतेला बर्ताव नहीं किया। उन्होंने अधिकतर कार्यक्रमों में इन्हीं बातों का हवाला देकर मुसलमानों को धीरे धीरे भारतीय जनता पार्टी को वोट किए जाने का मन बनवाया। उनके साथ अल्पसंख्यक मोर्चे के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जाकिर अहमद ने भी मुसलमानों को भारतीय जनता पार्टी से जोड़े जाने का अहम कार्य किया ।जिसके तहत भारतीय जनता पार्टी को उत्तर प्रदेश में एक बड़ी जीत हासिल हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read