HomeArticleपश्चिम विधान सभा क्षेत्र में होगी कांटे की टक्कर

पश्चिम विधान सभा क्षेत्र में होगी कांटे की टक्कर

अमित सक्सेना

लखनऊ | उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दो चरणों के चुनाव संपन्न हो जाने के बाद अब तीसरे चरण का चुनाव 20 फरवरी को संपन्न होने वाला है | वैसे तो इस बार विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी भारतीय जनता पार्टी को करारी टक्कर दे रही है , लेकिन यह भी तय है कि समाजवादी पार्टी का वोटों के ध्रुवीकरण के कारण सत्ता में आना मुश्किल नज़र आ रहा है | स्पष्ट है कि भारतीय जनता पार्टी का वोट बैंक बहुजन समाज पार्टी के वोट बैंक जैसा है | जिस प्रकार बहुजन समाज पार्टी दलितों के वोट पर राजनीति करती आ रही है ठीक उसी प्रकार भारतीय जनता पार्टी भी हिंदुत्व कार्ड खेलती आ रही है | इन दोनों के बीच अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी का अपना 2 प्रतिशत यादव वोट बैंक है | इसके अलावा ले देकर एक मुसलमान ही समाजवादी पार्टी का बड़ा वोट बैंक माना जाता है | लेकिन कांग्रेस , समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी ,एआईएमआईएम सहित आम आदमी पार्टी और अन्य दलों ने अधिकतर मुस्लिम उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारकर गेंद भाजपा के पाले में डाल दी है |

जाहिर है भारतीय जनता पार्टी के वोट बैंकों को काट पाना असंभव है | ऐसी स्थिति में अन्य दलों के वोटों का ध्रुवीकरण भारतीय जनता पार्टी को विजय रथ पर सवार कर सकता है | लेकिन कहीं-कहीं मतदाताओं से हुई बातचीत के मुताबिक अगर यह मान भी लिया जाए कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार से आम आदमी त्रस्त है तो भी भारतीय जनता पार्टी कम अंतर से सही लेकिन प्रदेश में सरकार बना सकती है |

समाजवादी पार्टी की अगर बात की जाए तो समाजवादी पार्टी मुस्लिम वोटर्स पर निर्भर है| लेकिन वो भी उसको एक तरफ़ा  पड़ने वाले नहीं | वोटों के ध्रुवीकरण के कारण समाजवादी पार्टी भारतीय जनता पार्टी को करारी टक्कर तो देने जा रही है लेकिन मुख्यमंत्री का सिहासन अखिलेश के हाथ में नजर आता नहीं दिखाई दे रहा है | इस समय उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पर सबकी निगाहें टिकी हुई है | लखनऊ की पश्चिम क्षेत्र की सीट पर भारतीय जनता पार्टी से अंजनी श्रीवास्तव ,समाजवादी पार्टी से अरमान खान, बहुजन समाज पार्टी से कायम रजा खान , कांग्रेस से शहाना सिद्दीक़ी और आप से राजीव बख्शी चुनाव मैदान में अपनी क़िस्मत आज़मा रहे हैं |

बताते चलें कि लखनऊ पश्चिम विधानसभा सीट बहुत महत्वपूर्ण मानी जा रही है | यहाँ 2017 में भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी। इस बार लखनऊ पश्चिम विधानसभा सीट के परिणाम किस पार्टी के पक्ष में होंगे, यह जनता को तय करना है।

2017 में लखनऊ पश्चिम में कुल 42.76 प्रतिशत वोट पड़े थे । 2017 में भारतीय जनता पार्टी से सुरेश कुमार श्रीवास्तव ने समाजवादी पार्टी के मोहम्मद रेहान को 13072 वोटों के मार्जिन से हराया था। सुरेश कुमार को 93,022 वोट मिले थे जबकि रेहान नईम को 79,950 मत प्राप्त हुए थे | इसके अलावा अरमान खान को 36,247 मत हासिल हुए थे | जबकि 2012 में रेहान नईम ने सिर्फ 49912 वोट हासिल करके भाजपा उम्मीदवार को हरा दिया था |

हालांकि पश्चिम विधानसभा क्षेत्र में इस बार आंकड़ा बदलता हुआ नजर आ रहा है | अभी तक सपा के उम्मीदवार अरमान खान भारतीय जनता पार्टी को कड़ी टक्कर देते हुए नजर आ रहे थे लेकिन उम्मीद की जा रही है कि चुनाव से पूर्व शिया संप्रदाय का वोट समाजवादी पार्टी से टूट कर बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार कायम रजा खान की तरफ बढ़ जाएगा |
सूत्रों की माने तो उनका कहना है कि क़ायम रज़ा खान शिया संप्रदाय में लोकप्रिय हैं लिहाजा शिया संप्रदाय मन बना रहा है कि यदि एकमत होकर उनको वोट दिया जाए तो उनके और बसपा के वोट बैंक के आधार पर क़ायम रजा खान को विजय प्राप्त हो सकती है | यदि ऐसा होता है तो अरमान खान के चुनाव जीतने के अरमान दिल में ही रह जाएंगे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read